लेख-आलेख

Pranab Mukherjee: भारत रत्न से सम्मानित पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की जीवनकाल की यात्रा, पढ़िए

दिवाकर तिवारीप्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee)  जी का जन्म 11 दिसंबर 1935 में प्रणव मुखर्जी का जन्म पश्चिम बंगाल के वीरभूम जिले में किरनाहर शहर के निकट स्थित मिराती गाँव के वे एक ब्रह्मण  परिवार में कामदा किंकर मुखर्जी और राजलक्ष्मी मुखर्जी के यहाँ हुआ था। उनके पिता 1920 से कांग्रेस पार्टी में सक्रिय होने के साथ पश्चिम बंगाल विधान परिषद में 1952 से 64 तक सदस्य और वीरभूम (पश्चिम बंगाल) जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष रह चुके थे।उनके पिता एक सम्मानित स्वतन्त्रता सेनानी थे, जिन्होंने ब्रिटिश शासन की खिलाफत के परिणामस्वरूप 10 वर्षो से अधिक जेल की सजा भी काटी थी।प्रणव मुखर्जी ने सूरी वीरभूम  के सुरी विद्यासागर कॉलेज में शिक्षा पाई, जो उस समय कोलकाता विश्वविद्यलय  से सम्बद्ध था। विश्वविद्यलय में उन्होंने राजनीति  और इतिहास के साथ  कानून की भी डिग्री हासिल करी ।वे वकील और कॉलेज प्राध्यापक भी रह चुके हैं।

(Pranab Mukherjee) उन्हें मानद डी. लिट उपाधि भी प्राप्त है। उन्होंने पहले एक कॉलेज प्राध्यापक के रूप में और बाद में एक पत्रकार के रूप में अपना कैरियर शुरू किया।उनका संसदीय कैरियर करीब पाँच दशक पुराना है, जो 1969 में कांग्रेस पार्टी के राज्यसभा सदस्य के रूप में (उच्च सदन) से शुरू हुआ था। वे 1975, 1981, 1993 और 1999 में फिर से चुने गये। 1973 में वे औद्योगिक विकास विभाग के केंद्रीय उप मन्त्री के रूप में मन्त्रिमण्डल में शामिल हुए।वे सन 1982 से 1984 तक कई कैबिनेट पदों के लिए चुने जाते रहे और और सन् 1984 में भारत के वित्त मंत्री बने। सन 1984 में, युरोमनी पत्रिका के एक सर्वेक्षण में उनका विश्व के सबसे अच्छे वित्त मंत्री के रूप में मूल्यांकन किया गया। वित्त मंत्री के रूप में प्रणव के कार्यकाल के दौरान डॉ॰ मनमोहन सिंह भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर थे।सन 1985 के बाद से वह कांग्रेस की पश्चिम बंगाल राज्य इकाई के भी अध्यक्ष हैं।

(Pranab Mukherjee) सन 2004 में, जब कांग्रेस ने गठबन्धन सरकार के अगुआ के रूप में सरकार बनायी, तो कांग्रेस के प्रधानमन्त्री मनमोहन सिंहसिर्फ एक राज्यसभा सांसद थे।  इसलिए जंगीपुर (लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र) से पहली बार लोकसभा चुनाव जीतने वाले प्रणव मुखर्जी को लोकसभा में सदन का नेता बनाया गया। उन्हें रक्षा, वित्त, विदेश विषयक मन्त्रालय, राजस्व, नौवहन, परिवहन, संचार, आर्थिक मामले, वाणिज्य और उद्योग, समेत विभिन्न महत्वपूर्ण मन्त्रालयों के मन्त्री होने का गौरव भी हासिल है वह कांग्रेस संसदीय दल और कांग्रेस विधायक दल के नेता रह चुके हैं, जिसमें देश के सभी कांग्रेस सांसद और विधायक शामिल होते हैं।

Janjgir: लाख कोशिशों के बावजूद नहीं बच सकी जान, कोरोना ने लीन ली एक और जिंदगी, सकते में परिवार

इसके अतिरिक्त वे लोकसभा में सदन के नेता, बंगाल प्रदेश कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष, कांग्रेस के नेतृत्व वाली सरकार के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की मंत्रिपरिषद में केन्द्रीय वित्त मन्त्री भी रहे,। 24 अक्टूबर 2006 को जब उन्हें भारत का विदेश मन्त्री नियुक्त किया गया, रक्षा मंत्रालय में उनकी जगह ए.के. एंटनी ने ली।

प्रणव मुखर्जी के नाम पर एक बार भारतीय राष्ट्रपति जैसे सम्मानजनक पद के लिए भी विचार किया गया था। लेकिन केंद्रीय मंत्रिमण्डल में व्यावहारिक रूप से उनके अपरिहार्य योगदान को देखते हुए उनका नाम हटा लिया गया। मुखर्जी की वर्तमान विरासत में अमेरिकी सरकार के साथ असैनिक परमाणु समझौते पर भारत-अमेरिका के सफलतापूर्वक हस्ताक्षर और परमाणु अप्रसार सन्धि पर दस्तखत नहीं होने के बावजूद असैन्य परमाणु व्यापार में भाग लेने के लिए परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह के साथ हुए हस्ताक्षर भी शामिल हैं। सन 2007 में उन्हें भारत के दूसरे सबसे बड़े नागरिक सम्मान पद्म विभूषण से नवाजा गया।प्रणव मुखर्जी को 26 जनवरी 2019 में भारत रत्न से सम्मानित किया गया।

अपने जीवनकाल में भारत के पूर्व राष्ट्रपति जी की मृत्यु कोविद की वजह से हुई है ये बहुत ही दुखत की बात है कि भारत के पूर्व राष्ट्रपति आज दिनांक 31 अगस्त 2020 , कोरोना वायरस की वजह से  84 साल की उम्र में उनका निधन हो गया। भगवान उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें।

9 Comments

  1. Thank you for another informative site. Where else may I get that type of information written in such an ideal approach?
    I have a project that I am just now operating on, and I’ve been on the glance out for such information.

  2. I have been browsing online greater than 3 hours nowadays, yet I never discovered any fascinating article like yours. It?¦s pretty worth enough for me. In my opinion, if all web owners and bloggers made excellent content as you probably did, the internet shall be much more helpful than ever before.

  3. hi!,I like your writing so so much! percentage we keep
    up a correspondence extra approximately your post on AOL?
    I need an expert on this area to unravel my problem.
    May be that’s you! Having a look ahead to see you.

  4. I was suggested this blog by my cousin. I am not sure whether this post
    is written by him as nobody else know such detailed about my difficulty.
    You are incredible! Thanks!

  5. I love your blog.. very nice colors & theme. Did you
    make this website yourself or did you hire someone to
    do it for you? Plz answer back as I’m looking to construct my own blog
    and would like to find out where u got this from.

    kudos

  6. Howdy just wanted to give you a quick heads up and let you know a few of the pictures aren’t loading correctly.
    I’m not sure why but I think its a linking issue. I’ve tried it in two different internet browsers and both show the same
    results.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button