कांकेर (उत्तर बस्तर)

Kanker: पहले ग्रामीणों के सामने थाना प्रभारी ने मांगी माफी, फिर घटना से किया इंकार…आखिर क्या है पूरा माजरा पढ़िए

प्रसेनजीत साहा@पखांजुर। (Kanker) कोटरी नदी पर नांव चलाने वाले तीन युवकों ने छोटेबैठिया में पदस्थ तीन पुलिस कर्मियों पर बन्दूक से मारपीट करने का आरोप लगाया है।गुस्साएं आदिवासी ग्रामीण सैकड़ो की संख्या में छोटेबैठिया थाना पहुंचकर थाना प्रभारी को जमकर फटकार लगाई है। थाना प्रभारी ने मामला को बढ़ता देख सैकड़ो ग्रामीण के सामने हाथ जोड़कर माफी मांगी तब जाकर गुस्साएं ग्रामीणों का गुस्सा शांत हुआ।

  नहीं हुआ अब तक पुल का निर्माण

गौरतलब है कि इलाके में बहने वाली कोटरी नदी पर पुल का निर्माण नही हो पाया है। जिससे ग्रामीणों को आवाजाही में काफी मशक्कत होती है। ऐसे विषम परिस्थितियों के बीच ग्रामीण खुद से नाव चलाकर बहती नदी में आवाजाही करते हैं।

नक्सलियों का सामान नाव से पार कराने का लगाया आरोप

(Kanker) इसी तरह गुरुवार की शाम नदी के तट पर छोटेबैठिया थाना में पदस्थ पुलिस कर्मियों ने नक्सलियो का समान नदी पार कराने का आरोप युवकों पर लगाया। फिर नांव चलाने वाले युवकों के साथ मारपीट की।युवकों के अनुसार पुलिसकर्मी नशे में थे। पुलिसकर्मियो ने युवकों को जमकर गालियां दी। जवान ने बंदूक से ग्रामीण युवकों के साथ मारपीट की।

छोटेबैठिया थाने पहुंचे गुस्साएं ग्रामीण

(Kanker) युवकों ने गांव में जाकर ग्रामीणों को अपने साथ हुए घटना की जानकारी दी। जिसके बाद गुस्साएं ग्रामीण भारी संख्या में थाने को कूच किए। जहां मौजूद थाना प्रभारी को जमकर फटकार लगाई। तब दोषी पुलिसकर्मियों ने हाथ जोड़कर ग्रामीणों से अपने गुनाह की मांफी मांगी।

आखिरकार थाना प्रभारी को ग्रामीणों के पैरों के सामने झुक कर पैर पकड़कर माफी मांगनी पड़ी।  तब जाकर मामला शांत हुआ।

थाना प्रभारी ने मारपीट की घटना से किया इंकार

छोटेबैठिया थाना प्रभारी  से चर्चा के दौरान इस पूरे मामले में ग्रामीणों द्वारा आरोप मढ़ने की बात कहते हुए मारपीट की घटना से इंकार किया है।जबकि वीडियो में थानाप्रभारी द्वारा हथजोडकर ग्रामीणों से मांफी मांगते हुए स्पष्ट रूप से देखे जा सकते हैं।

Related Articles

66 Comments

  1. 418920 820170Now im encountering a fresh short difficulties Once i cant appear like allowed to sign up for the certain give food to, Now im utilizing search engines like google audience. 959158

  2. 871993 691646Certainly price bookmarking for revisiting. I wonder how much attempt you put to create any such great informative website. 426828

  3. 107434 196718Oh my goodness! an remarkable post dude. Thanks a ton Nonetheless I will be experiencing difficulty with ur rss . Do not know why Not able to join it. Can there be everybody acquiring identical rss concern? Anybody who knows kindly respond. Thnkx 922534

  4. 481643 2332Thank you, Ive just been searching for data about this topic for a whilst and yours could be the greatest Ive discovered till now. But, what in regards to the conclusion? Are you sure concerning the supply? 210470

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button