छत्तीसगढ़देश - विदेश

Arrest: ‘मरने वाले वेतनभोगी पेशेवर’, शहीद नहीं, 22 जवानों की शहादत पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाली लेखिका गिरफ्तार

नई दिल्ली/रायपुर। (Arrest) बीजापुर के तर्रेम के जंगलों में हुई मुठभेड़ में शहीद हुए 22 जवानों को लेकर लेखिका ने आपत्तिजनक पोस्ट की है। जिसके बाद 48 वर्षीय लेखिका शिखा सरमा को गिरफ्तार कर लिया है। लेखिका को मंगलवार को असम के गुवाहाटी से गिरफ्तार किया गया है। (Arrest) जवानों पर आपत्तिजनक टिप्पणी और राजद्रोह के आरोप में लेखिका गिरफ्तार हुई है। उन्हें आईपीसी की धारा 124 एक (राजद्रोह) समेत अन्य धाराओं के तहत गिरफ्तार किया गया है।(Arrest)  उन्हें आज यानी बुधवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा। सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहने वालीं सरमा ने सोमवार को छत्तीसगढ़ हमले को लेकर एक फेसबुक पोस्ट लिखा था।

ड्यूटी के दौरान काम करने वाले वेतनभोगी शहीद नहीं

उन्होंने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा- ‘अपनी ड्यूटी के दौरान काम करते हुए मरने वाले वेतनभोगी पेशेवरों को शहीद का दर्जा नहीं दिया जा सकता। इस तर्क से तो बिजली विभाग में काम करने वाले कर्मचारी की अगर बिजली के झटकों की वजह से मौत हो जाती है तो उसे भी शहीद का दर्जा मिलना चाहिए। लोगों की भावनाओं के साथ मत खेलो।’ शिखा सरमा के इस पोस्ट की तीखी आलोचना हुई।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button