गरियाबंद

Gariyaband: एक दशक बीते…मगर नहीं मिला किसानों को मुआवजा, प्रशासनिक कार्यालयों के चक्कर काटने को मजबूर ग्रामीण

रवि तिवारी@गरियाबंद। (Gariyaband) तेल नदी सेतु निर्माण को एक दशक बित गया परंतु सेतु निर्माण के लिए जिन किसानो की जमीन अधिग्रहित की गई थी उन किसानो को आज पर्यंत पूरा मुआवजा नही मिल पाया है। जमीन गवाने वाले किसान आज भी शासन प्रशासन के चक्कर काटने को मजबुर है। किसानो ने बताया कि मुआवजा के नाम पर अब तक उन्हे केवल एक किश्त दी गई है, (Gariyaband)उसे भी पांच साल बित गया। शेष राशि के लिए वे लगातार शासन प्रशासन के चक्कर काटने मजबुर है। वही मुआवजा की दरकार कर रहे छ किसानो की तो मौत भी हो चुकी है।

ज्ञात हो कि 12 साल पहले जिले के अंतिम छोर में बसे देवभोग ब्लाक अंतर्गत तेल नदी में सेतु निर्माण किया गया है। जिसमें अंचल की दो ग्राम पंचायत कुम्हड़ईखुर्द और कुम्हड़ईकला के 28 किसानो की 4.92 हेक्टयर जमीन की अधिग्रहित की गई थी। इसके बदले किसानो को 6232574 रूपए का मुआवाज दिया जाना था। जिसमें ग्राम पंचायत कुम्हड़ईखुर्द के 15 किसानो को 2416614 रूपए तथा ग्राम पंचायम कुम्हड़ईकला के 13 किसानो को 3815960 रूपए का मुआवजा राशि मिलनी थी।

शासन प्रशासन ने निर्माण कार्य हेतु इन किसानो की जमीन तो अधिग्रहित कर ली और निर्माण कार्य भी पूरा कर लिया लेकिन इन्हे मुआवजा देने में उतनी गंभीरता नही दिखाई जिसके चलते ये किसान आज भी भटकने को मजबुर है। किसानो ने बताया कि मुआवाजा के नाम पर उन्हे पांच साल पहले केवल कुछ हजार रूपए दिए गए है जिसके बाद से वे शेष राशि या दूसरी किश्त के लिए भी शासन प्रशासन के चक्कर काट रहे है।

सोमवार को फिर ये किसान जिला पंचायत उपाध्यक्ष संजय नेताम के नेतृत्व में लंबित राशि की मांग को लेकर जिला कार्यालय पहुॅचे थे। जहां किसानो ने कलेक्टर से शेष मुआवाजा राशि दिलाने की मांग की। यहां पहुचे किसान सारथी राम नेताम, रामेश्वर पात्र, कुंतोराम, निरादी, सुदुर सहित अन्य किसानो ने बताया कि देवभोग एसडीएम व कलेक्टर को मुआवजा राशि की मांग लेकर कई बार आवेदन कर चुके है। लोक सुराज अभियान के दौरान तत्कालिक मुख्यमंत्री डाॅरमनसिंह से भी मिलकर मुआवजा राशि देने की मांग कर चुके है परंतु शासन प्रशासन द्वारा उनकी मांगो को गंभीरता नही से ध्यान नही देने के चलते वर्षो से पीड़ित है। आर्थिक और मानसिक रूप से परेशान है।

इधर इस संबंध में जल संसाधन विभाग के ई पीके आनंद से चर्चा करने पर उन्होने कहा कि मुआवजा प्रकरण की कार्यवाही लंबित है। मामले की अधिक जानकारी एसडीओ से लेनी होगी, उसके बाद ही कुछ बता सकुंगा।

अनुविभागीय अधिकारी अनुप कुमार टोप्पो ने बताया कि प्रकरण भुगतान संबंधी मार्गदर्शन हेतु कलेक्टर से शासन को भेजा गया है। मार्गदर्शन मिलने के बाद आगे की कार्यवाही होगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button