विशेष

Motilal Vora: 2 बार मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री, 1 बार राज्यपाल, गांधी परिवार के रहे करीबी, ऐसा रहा मोतीलाल वोरा का राजनीतिक सफर

नई दिल्ली। (Motilal Vora) कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और गांधी परिवार के करीबी मोतीलाल वोरा ने आज दुनिया को अलविदा कह दिया. रविवार को उन्होंने अपने 93 वां जन्मदिन मनाया था. 1960 से लेकर अब तक वोरा ने कई अहम पद संभाले हैं. (Motilal Vora)  पत्रकारिता जगत से वोरा राजनिती सियासत में आए थे. कांग्रेस पार्टी में दो दशक कोषाध्यक्ष भी रहे.

दो बार रहे एमपी के मुख्यमंत्री

(Motilal Vora) मोतीलाल वोरा दो बार  मार्च 1985 से फरवरी 1988 और 25 जनवरी 1989 से 9 दिसंबर 1989 तक दो बार मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री रहे. 1993 में उन्होंने उत्तर प्रदेश के राज्यपाल बनें.  

वोरा का राजनीतिक सफर

मोतीलाल वोरा ने 1968 में राजनीति में एंट्री की. 1970 में मध्यप्रदेश विधानसभा से चुनाव जीता और राज्य सड़क परिवहन निगम के उपाध्यक्ष नियुक्त किए गए. 1977 और 1980 में दोबारा विधानसभा में चुने गए और उन्हे 1980 में अर्जुन सिंह मंत्रिमंडल में उच्च शिक्षा विभाग की जिम्मेदारी संभाली. मोतीलाल वोरा 1983 में कैबिनेट मंत्री बने और मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के रूप में भी नियुक्त हुए.

Bemetara में 5,500 फ्रंटलाइन हेल्थ वर्करों को लगेगी कोरोना वैक्सीन, पढ़िए पूरी खबर

नेशनल हेराल्ड केस के कारण विवादों में रहे

नेशनल हेराल्ड न्यूज पेपर की संपत्ति के विवाद में मोतीलाल वोरा विवादों में भी रहे. इस केस को लेकर कोर्ट में अभी भी सुनवाई चल रही है, अभी तक कोई फैसला नहीं हुआ है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button