धमतरी

Dhamtari: अब धमतरी वासियों का इंतजार खत्म, अब सजे संवरे हालत में दिखेगा जिले का ये ऐतहासिक भवन

संदेश गुप्ता@धमतरी। (Dhamtari) जिले के सौ साल पुराने कोतवाली भवन का जीर्णोद्धार किया जा रहा है। वो भी पुराने स्वरूप को यथावत रखते हुए। अंग्रेजो के बनाये इस भवन का धमतरी वासियों से पीढ़ियों के रिश्ता है। वैसे तो थाना और कोतवाली हर शहर में होते है, (Dhamtari) और पुलिस से नाता उनको पड़ता है। जो अपराध करते है या अपराध का शिकार होते हैं।

Chhattisgarh: मुख्यमंत्री जिला मुख्यालय बैकुण्ठपुर स्थित विश्राम गृह में अधिकारियों कर्मचारियों से की मुलाकात

(Dhamtari)  लेकिन धमतरी की सिटी कोतवाली कुछ अलग है। इस थाने से धमतरी के हर नागरिक का पीढ़ियों से रिश्ता है। ये भवन अंग्रेजी शासन काल मे 19 वी शताब्दी के आखिरी दशक में बनाया गया था। उस दौर में जिले में सिर्फ 2 थाने हुआ करते थे।

IED ब्लास्ट, 1 जवान घायल, जिला मुख्यायलय से महज 7 किलोमीटर दूर पहाड़ी पर किया आईईडी ब्लास्ट

सिहावा थाना और कोतवाली, इस कोतवाली से दशकों तक आधे जिले में कानून व्यवस्था का नियंत्रण होता रहा। आज धमतरी जिले में 16 थाने और 2 चौकियां है।

Bilaspur: अवमानना मामला, डीजीपी अवस्थी और एडीजीपी जुनेजा को नोटिस, शीतकालीन अवकाश के बाद अगली सुनवाई

अब धमतरी के इस ऐतिहासिक कोतवाली भवन का पहली बार जीर्णोद्धार हो रहा है। धमतरी एसपी खुद अपनी निगरानी में ये काम करवा रहे हैं। जीर्णोद्धार में इस बात का ख्याल रखा जा रहा है कि थाने के मूल स्वरूप से छेड़छाड़ न हो। इस काम में करीब 15 लाख रुपए खर्च किये जायेंगे।

जल और वन संपदा से समृद्ध धमतरी इलाके में अंग्रेजो ने 100 साल से भी पहले विकास की हवा बहाई थी। बांध, नहर, रेलवे, अस्पताल और स्कूल बनवा दिया था।  इसी के साथ ही कचहरी और थाना भी बनवाया गया। उसी दौर में ये कोतवाली भी शुरू हुआ।

शहर के बीचोबीच बने कोतवाली को देखते हुए धमतरी की कई पीढियां बच्चे से बुजुर्ग हो गई और एक अनाम रिश्ता इस भवन से लोगो का बन चुका है। लोग चाहते है कि इस भवन को ऐतिहासिक विरासत माना जाए और इसका स्वरूप पुराना ही रखा । ताकि आने वाली पीढ़ियों को भी, धमतरी के गर्वीले इतिहास की जानकारी रहे।

Related Articles

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button