राजनीति

Congress विधायक ने कहा- आदिवासी विरोधी कारनामों के उजागर होने से क्या घबरा रही भाजपा

रायपुर । (Congress) शिशुपाल शोरी, संसदीय सचिव एवं विधायक कांकेर ने कहा है कि आदिवासी समाज में समाप्त हो रही  साख को बचाने के लिए भाजपा के नेता भू राजस्व संहिता की धारा 165 की उप धारा 6 के विलोपन की झूठी अफ़वाह उड़ाकर भ्रम पैदा करने की कौशिश कर रहे है जबकि कांग्रेस सरकार इस धारा को मजबूती देेेकर अधिक से अधिक जनजाति समाज के हितों के अनुरूप काम कर रही है।

(Congress)शिशुपाल शोरी, संसदीय सचिव एवं विधायक कांकेर ने कहा है कि राज्य निर्माण के पश्चात अभी तक कितने आदिवासियों की जमीन गैर आदिवासियों के पक्ष में अंतरित हुए है, जमीन अंतरण के कारण जनजाति समाज के आर्थिक सामाजिक एवं सांस्कृतिक मूल्यों पर क्या प्रभाव पड़ा है भविष्य में कोई भी राजनीतिक पार्टी आदिवासी हितों के विपरीत भू राजस्व संहिता में संशोधन न कर सके, इसलिए प्रदेश के संवेदनशील मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी के द्वारा उप समिति गठित कर प्रतिवेदन प्रस्तुत करने का फैसला आदिवासी समाज के हित में लिया गया है। 

(Congress)शिशुपाल शोरी, संसदीय सचिव एवं विधायक कांकेर ने कहा है कि आदिवासियों को लेकर घड़ियाली आंसू बहाने वाले भाजपा की सरकार यदि चाहती तो अपने 15 साल के कार्यकाल में आदिवासियों के पक्ष में मजबूत विधेयक ला सकती थी किन्तु भाजपा को आदिवासियों के हित की नही  बड़े-बड़े उद्योगपतियों के  हितों की चिन्ता थी । भाजपा  को तो उद्योगपतियों को आदिवासियों की जमीन तश्तरी में रखकर उपलब्ध कराने की जल्दबाजी थी । भाजपा ने 15 साल के कार्यकाल में हजारों एकड़ जमीन आदिवासियों से छिन कर उद्योगपतियों को उपलब्ध करायी गयी। इन सबकी जांच हो यह भाजपा  नहीं चाहती । आदिवासी सलाहकार परिषद, उप समिति का गठन करे, उप समिति के प्रतिवेदन आने पर भाजपा कार्यकाल एवं उनके नुमाईंदो की पोल खुलने का डर है। कांग्रेस की सरकार संकल्पित है कि आदिवासी के संवैधानिक एवं कानूनी अधिकारों को ना केवल मजबूत बनाया जायेगा बल्कि उनके क्रियान्वयन के लिए सुगम एवं पारदर्शीे नियम भी बनाये जायेंगे। इसी कड़ी में उप समिति का गठन किया गया है ।

कांग्रेस(Congress) की सरकार हमेशा आदिवासियों के संवैधानिक रक्षा के लिए लड़ती आयी है, यही कारण है कि 2018 चुनाव के जनघोषणा पत्र में संविधान की पांचवी अनुसूची एवं पेसा कानून एवं आदिवासी के अन्य संवैधानिक अधिकारों को लागू करने की बात रखी गई है। जब से भूपेश बघेल जी मुख्यमंत्री के रूप में छ.ग. की बागडोर संभाले है तब से आदिवासियों के हितों में अनेक फैसले लिये गये है 

Chhattisgarh: संसद सत्र के पहले दिन इन मांगों को लेकर किसान 14 सितंबर को पूरे देश में करेंगे प्रदर्शन…पढ़िए

लौहण्डीगुड़ा में टाटा उद्योग समूह को सौपी गई जमीन मूल आदिवासी को वापस करना
आदिवासी के संस्कृृति के संरक्षण हेतु आदिवासी महोत्सव का आयोजन
आदिवासियों के अधिकारों का खुले मंच पर चर्चा परिचर्चा 
विश्व आदिवासी दिवस को सार्वजनिक अवकाश 
वन अधिकार कानून 2006 का सफल क्रियान्वयन
तेंदूपत्ता तोड़ने की दर 25 ₹100 प्रति मानक बोरा से बढ़ाकर ₹4000 प्रति मानक बोरा करना
लघु वनोपज की देश में सबसे अधिक रिकार्ड खरीद

भाजपा के कुछ नेताओं के द्वारा अनर्गल प्रलाप कर आदिवासी समाज को गुमराह करने का प्रयास किया जा रहा है, जो न केवल निंदनीय है बल्कि शांति प्रिय आदिवासी समाज को गुमराह करने का प्रयास भी हैै। भाजपा की सरकार ने छत्तीसगढ़ में  लगातार 15 वर्षों तक आदिवासी समाज के हकों और हितों के साथ साथ संवैधानिक अधिकारों को अनदेखा करती रही है। रमनसिंह के शासन काल में वर्ष 2012 में गोंड़वाना भवन में हजारों आदिवासियों पर बर्बरतापूर्वक लाठी चार्ज किया गया ए

Congress विधायक ने कहा- आदिवासी विरोधी कारनामों के उजागर होने से क्या घबरा रही भाजपा

रायपुर । शिशुपाल शोरी, संसदीय सचिव एवं विधायक कांकेर ने कहा है कि आदिवासी समाज में समाप्त हो रही  साख को बचाने के लिए भाजपा के नेता भू राजस्व संहिता की धारा 165 की उप धारा 6 के विलोपन की झूठी अफ़वाह उड़ाकर भ्रम पैदा करने की कौशिश कर रहे है जबकि कांग्रेस सरकार इस धारा को मजबूती देेेकर अधिक से अधिक जनजाति समाज के हितों के अनुरूप काम कर रही है।

शिशुपाल शोरी, संसदीय सचिव एवं विधायक कांकेर ने कहा है कि राज्य निर्माण के पश्चात अभी तक कितने आदिवासियों की जमीन गैर आदिवासियों के पक्ष में अंतरित हुए है, जमीन अंतरण के कारण जनजाति समाज के आर्थिक सामाजिक एवं सांस्कृतिक मूल्यों पर क्या प्रभाव पड़ा है भविष्य में कोई भी राजनीतिक पार्टी आदिवासी हितों के विपरीत भू राजस्व संहिता में संशोधन न कर सके, इसलिए प्रदेश के संवेदनशील मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी के द्वारा उप समिति गठित कर प्रतिवेदन प्रस्तुत करने का फैसला आदिवासी समाज के हित में लिया गया है। 

शिशुपाल शोरी, संसदीय सचिव एवं विधायक कांकेर ने कहा है कि आदिवासियों को लेकर घड़ियाली आंसू बहाने वाले भाजपा की सरकार यदि चाहती तो अपने 15 साल के कार्यकाल में आदिवासियों के पक्ष में मजबूत विधेयक ला सकती थी किन्तु भाजपा को आदिवासियों के हित की नही  बड़े-बड़े उद्योगपतियों के  हितों की चिन्ता थी । भाजपा  को तो उद्योगपतियों को आदिवासियों की जमीन तश्तरी में रखकर उपलब्ध कराने की जल्दबाजी थी । भाजपा ने 15 साल के कार्यकाल में हजारों एकड़ जमीन आदिवासियों से छिन कर उद्योगपतियों को उपलब्ध करायी गयी। इन सबकी जांच हो यह भाजपा  नहीं चाहती । आदिवासी सलाहकार परिषद, उप समिति का गठन करे, उप समिति के प्रतिवेदन आने पर भाजपा कार्यकाल एवं उनके नुमाईंदो की पोल खुलने का डर है। कांग्रेस की सरकार संकल्पित है कि आदिवासी के संवैधानिक एवं कानूनी अधिकारों को ना केवल मजबूत बनाया जायेगा बल्कि उनके क्रियान्वयन के लिए सुगम एवं पारदर्शीे नियम भी बनाये जायेंगे। इसी कड़ी में उप समिति का गठन किया गया है ।

कांग्रेस की सरकार हमेशा आदिवासियों के संवैधानिक रक्षा के लिए लड़ती आयी है, यही कारण है कि 2018 चुनाव के जनघोषणा पत्र में संविधान की पांचवी अनुसूची एवं पेसा कानून एवं आदिवासी के अन्य संवैधानिक अधिकारों को लागू करने की बात रखी गई है। जब से भूपेश बघेल जी मुख्यमंत्री के रूप में छ.ग. की बागडोर संभाले है तब से आदिवासियों के हितों में अनेक फैसले लिये गये है 

Related Articles

74 Comments

  1. 909564 76546Greetings! Quick question thats completely off subject. Do you know how to make your website mobile friendly? My website looks weird when browsing from my apple iphone. Im trying to locate a template or plugin that may be able to correct this problem. In the event you have any suggestions, please share. With thanks! 472310

  2. 955831 212863I discovered your weblog web site internet site on the search engines and check several of your early posts. Always sustain up the very very good operate. I lately additional increase Rss to my MSN News Reader. Looking for toward reading considerably much more on your part later on! 713431

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button