बिलासपुर

Bilaspur: विधानसभा में नए को मिलेगा मौका, ऐसा मैं सोचता हूं… नवनिर्वाचित कांग्रेस के ब्लॉक अध्यक्ष तैय्यब ने बिलासपुर के मौजूदा विधायक से कहा, आखिर क्या है पूरा माजरा

उपेन्द्र त्रिपाठी@बिलासपुर। (Bilaspur) प्रदेश में कांग्रेस की सत्ता बनने के बाद 15 साल का वनवास झेल रहे कांग्रेसियों में  वर्चस्व की लड़ाई लगातार देखी जा रही है। शहर का आलम भी कुछ इसी तरह है, जहां कांग्रेसी नेता एक दूसरे को सरेआम आंखें तरेरते हुए विवाद कर रहे हैं। कई बार बिलासपुर के मौजूदा विधायक शैलेष पांडे ने संगठन से अपने अपमान की बातें कहीं।  वही विधायक ने भी कभी थाने में रेट लिस्ट चस्पा करने और अन्य कई मामलों में कांग्रेस सरकार को कटघरे में खड़ा किया। मगर संगठन ने विधायक के कामों को कई बार सराहा भी।(Bilaspur)  रविवार को ही कृषि व जल संसाधन मंत्री रविंद्र चौबे ने उनकी मंच से तारीफ की। और सोमवार को इसी संगठन में फिर से दरार देखी गई।

Dhamtari: सोशल मीडिया पर वायरल हुआ वीडियो, संगठन और कर्मचारियों ने की तारीफ, आरक्षक ने फिर उठाया नगर सैनिकों के लिए आवाज, देखिए ये वीडियो

(Bilaspur) 2 दिन के प्रवास पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल में रहे। शहर के लोगों को करोड़ो की सौगात दी। प्रवास के दूसरे दिन सोमवार को सर्किट हाउस में मुख्यमंत्री स्थानीय अधिकारी-कर्मचारियों, समाज प्रमुखों, कार्यकर्ताओं से मिल रहे थे। मुलाकात के लिए कांग्रेसी भी बाहर इंतजार में बैठे थे। कार्यकर्ताओं के साथ ब्लॉक अध्यक्ष तैय्यब हुसैन और मौजूदा बिलासपुर विधायक शैलेष पाण्डेय आमने-सामने हुए। इस दौरान विधायक शैलेष ने तैय्यब हुसैन की ब्लॉक अध्यक्ष की नियुक्ति पर सवाल खड़े करते हुए बात कही। जिस पर विवाद खड़ा हो गया और अन्य कांग्रेसी नेताओं को दोनों को शांत कराने हस्तक्षेप करना पड़ा। नवनिर्वाचित ब्लॉक अध्यक्ष तैयब हुसैन का इस बीच पुलिस अधिकारी के साथ भी तीखी नोकझोंक हुई। जिस मामले को पुलिस के आला अधिकारी ने शांत कराया।

विधायक शैलेश पांडे और ब्लॉक अध्यक्ष तैयब हुसैन के बीच हुए विवाद के बाद तैयब ने मीडिया से कहा कि विधायक ने उनसे कहा कि तुम्हे अध्यक्ष नहीं बनना था। किसी नये को मौका दिया जाना चाहिए था।  जिस पर मैंने कहा अगले विधानसभा में भी नए को मौका मिलेगा, ऐसा मैं भी सोचता हूं।

कांग्रेस संगठन के बड़े नेताओं की बात रखते हुए तैयब ने कहा विवाद जैसी कोई स्थिति नहीं है, लेकिन अपमान की पीड़ा तो होती ही है। तैय्यब हुसैन ने कहा कि वे पार्टी से 20 सालों से जुड़े हैं। जमीन पर वे काम करते हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जब प्रदेश अध्यक्ष थे। तब भी मैं ब्लॉक अध्यक्ष था। मैं संगठन के प्रति समर्पित हूँ। मुख्यमंत्री का विश्वास मुझ पर हैं। इसलिए मुझे फिर से जिम्मेदारी दी गई है। लेकिन शैलेष पाण्डेय मेरा अपमान किये। जिसकी मुझे पीड़ा हुई है। तैयब ने कहा विधानसभा चुनाव पर नजर दौड़ाएंगे तो सबसे ज्यादा 40 वार्ड मेरे ब्लॉक के अंदर आते थे और मैंने अपने वार्डों में सबसे बढ़ोतरी दी। चूंकि शैलेश पांडे क्योंकि नए आए थे। इस कारण मेहनत हमने की और फसल उन्होंने काटी और चुनाव जीतकर शहर के विधायक बने।

इसके बाद विधायक ने अपनी पैरलल टीम लेकर चलना शुरू किया। जो कभी कांग्रेस में सक्रिय नहीं रहे, उनके साथ चलना और संगठन के लोगों का अपमान करना। हालांकि इस मामले में विधायक कि कोई प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button