बालोद

Havoc of rain: मूसलाधार बारिश से बेहाल ये जिला, सड़क पर पानी, घर के अंदर पानी, अब क्या करें रहवासी, देखिए

शिव जायसवाल@बालोद। (Havoc of rain) बीते 36 घंटे से बालोद जिले में हो रही मूसलाधार बारिश के चलते जनजीवन अस्त व्यस्त हो चुका है। नदियां और नाले उफान पर हैं। कुछ गांव ऐसे हैं। जहां पर घरों में पानी भी भर चुका है। बालोद जिला मुख्यालय से लगभग 20 किलोमीटर दूर ग्राम ने पानी में 36 घंटे की बारिश ने हाहाकार मचा दिया है। आधा दर्जन लोगों के घरों में पानी घुस चुका है। जिसके कारण उन्हें स्कूलों का सहारा लेना पड़ रहा है। जब हम रिपोर्टिंग करने वहां पहुंचे तो गाड़ी भी गांव में नहीं घुस पाई। वहीं कुछ पीड़ित लोगों का कहना है कि खाने-पीने के लिए दिक्कतें हो रही है। शासन-प्रशासन व पंचायत से अब तक किसी तरह का कोई मदद नहीं मिल पाया है।

(Havoc of rain)गौरतलब है कि पूरे जिले में बीते 36 घंटे से मूसलाधार बारिश हो रही है। खेतों में भी पानी अब अधिक हो चुका है। सभी खेतों की मेड़ काटने में लग गए हैं। वही नदी नाले भी उफान पर हैं। लोग खुद को घरों में ही महफूज समझ रहे हैं। कामकाज भी ठप पड़ा हुआ है। बाजार में सन्नाटा पसरा हुआ है। सबसे ज्यादा ग्रामीण अंचलों में स्थिति खराब हुई है। क्योंकि छोटे-छोटे छोटे-छोटे नदी नाले सड़कों से ऊपर बह रहे हैं। तो वहीं लोगों को दूसरे गांव आने जाने में भी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। बीते 36 घंटे में पूरे जिले में एक समान मूसलाधार बारिश दर्ज की गई है।

Video: बरसते पानी में छात्रों के लिये कांग्रेस ने दिया धरना, JEE और NEET का जारी है विरोध,  राजधानी सहित सभी जिला मुख्यालयों में प्रदर्शन
36 घंटे में इतनी हुई वर्षा

(Havoc of rain)बीते 36 घंटे में औसत 13 5.9 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है। सबसे ज्यादा गुंडरदेही वह बालोद में वर्षा दर्ज की गई है। वहीं सबसे कम वर्षा डौंडी विकासखंड में दर्ज की गई है गुंडरदेही विकासखंड में एक साथ 8.8 बालोद में 170.3 गुरुर में 146.2 डौंडीलोहारा में 114.2 एवं डौंडी में 70.0 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है बालोद जिले के ग्राम निपानी में स्थिति काफी खराब हो चुकी है गांव से पानी निकासी के लिए लोगों द्वारा जेसीबी के माध्यम से नालियों की आकस्मिक सफाई कराई जा रही है लोगों को राहत देने स्कूलों में आसरा प्रदान किया गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button