बिलासपुर

‌Chhattisgarh के बिलासपुर में 11 बहुएं ऐसी हैं, जिन्होंने अपनी सास का मंदिर बनवाया, सोने के गहनों से किया श्रृंगार, रोज आरती उतार करती हैं पूजा

मनीष@बिलासपुर। (Chhattisgarh) छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जिले में एक ऐसा भी परिवार है, जिनकी बहुओं को अपनी सास से इतना प्रेम था कि उनके देहांत के बाद उनकी यादों को संजोए रखने के लिए सास का मंदिर बनवा लिया। इतना ही नहीं वे रोज उनकी पूजा करने के साथ आरती भी उतारती हैं। (Chhattisgarh) माह में एक बार मंदिर के सामने बैठकर भजन-कीर्तन करतीं हैं। सास-बहुओं के बीच ऐसा प्रेम शायद ही आपने कहीं और देखा होगा।

(Chhattisgarh) बिलासपुर जिला मुख्यालय से 25 किलोमीटर दूर बिलासपुर-कोरबा मार्ग पर रतनपुर में यह मंदिर 2010 से बना है। रतनपुर में महामाया देवी का मंदिर विश्वप्रसिद्ध है। यहां पर रिटायर्ड शिक्षक शिवप्रसाद तंबोली 77 वर्ष का 39 सदस्यों वाला संयुक्त परिवार है। उनकी 11 बहुएं हैं। बहुओं की सास गीता देवी का 2010 में स्वर्गवास हो गया, वे जीवित थीं तो बहुओं से अगाध प्रेम करती थीं। उन्हें अपनी बेटियों की तरह स्नेह करती थीं। बहुओं को पूरी आजादी दे रखी थी। गीता को भी ये संस्कार अपनी सास से मिले थे। उनके जमाने में सास-बहुओं के झगड़े चरम पर थे, पर वे अपनी बहुओं को एकता का पाठ पढ़ाती थीं। बहुओं को भी उनसे कभी शिकायत नहीं रही।

गीता के पति शिव प्रसाद कहते हैं कि गीता के अच्छे संस्कार और धार्मिक सदाचार ने ही आज तक परिवार को जोड़कर रखा है। तंबोली परिवार को उनसे बिछडऩे का आज भी बहुत दुख है।

Bijapur: 8 लाख के इनामी नक्सली के साथ DAKMS अध्यक्ष गिरफ्तार, DRG और STF की संयुक्त कार्रवाई

उनका मानना है कि गीता देवी के प्रयासों से ही परिवार में सुख, समृद्धि और एकता है। परिवार में कभी झगड़ा नहीं हुआ। हर काम सलाह से करते हैं। बहुओं ने सास की मूर्ति का सोने के गहनों से श्रृंगार किया है। गीता की तीन बहुएं हैं। इनमें बेटे संतोष की पत्नी ऊषा 51वर्ष, प्रकाश की पत्नी वर्षा 41 वर्ष और प्रमोद की पत्नी रजनी 37 वर्ष शामिल है। संयुक्त परिवार में गीता देवी के देवर केदार की पत्नी कलीबाई 65 वर्ष, कौशल की मीराबाई 31 वर्ष, पुरुषोत्तम की गिरिजा बाई 55 वर्ष और सुभाष की अंजनी 50 वर्ष भी हैं। बड़ी जेठानी गीता ने कभी उन्हें देवरानी नहीं माना, बल्कि बहनों की तरह ही दुलार किया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button