ज्योतिष

Surya Grahan 2021: ‘Ring of fire’ जैसा दिखेगा साल का पहला सुर्यग्रहण, भारत में इन दो जगहों पर असर

नई दिल्ली। साल 2021 का पहला सुर्यग्रहण (Surya Grahan) आज है. साल का पहला सुर्यग्रहण ‘Ring of fire’ जैसा होगा. यह साल का पहला वलयाकार सुर्यग्रहण होने वाला है. हालांकि, रिंग ऑफ फायर देश-दुनिया की सभी जगहों पर नहीं दिखाई देगा. ज्यादातर लोग सूर्य ग्रहण के आंशिक रूप को ही देख पाएंगे, जो कि नॉर्थ अमेरिका, यूरोप और एशिया के कुछ चुनिंदा हिस्सों से ही नजर आएगा.

भारतीय समयानुसार यह ग्रहण . ये ग्रहण दोपहर 1 बजकर 42 मिनट पर लगेगा और शाम 6 बजकर 41 मिनट पर खत्म होगा. ग्रहण एक बेहद महत्वपूर्ण खगोलीय घटना है.

अमेरिका में भी साउथ-ईस्ट, नॉर्थ-ईस्ट, मिड वेस्ट और नॉर्दर्न अलास्का के लोग सूर्य ग्रहण के आंशिक रूप को देख सकेंगे. भारत में यह नजारा लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश (Ladakh and Arunachal Pradesh) के कुछ हिस्सों से ही देखा जा सकेगा. फाहर्टी ने यह भी कहा कि ये आंशिक सूर्य ग्रहण दिखने में अविश्वसनीय हो सकता है.

कनाडा के ज्यादातर स्काईवॉचर्स के अलावा कैरीबियन, यूरोप, एशिया और उत्तरी अफ्रीका की कुछ जगहों से भी लोग इस आंशिक सूर्य ग्रहण को देख पाएंगे.

 जानिए कब होता है सूर्य ग्रहण

 यह खगोलीय घटना (celestial event) आकाश में उस वक्त होती है जब चंद्रमा सूर्य और पृथ्वी (moon sun and earth) के ठीक बीच में आ जाता है. ऐसे में पृथ्वी पर पड़ने वाली सूर्य की कम से कम कुछ किरणें अवरुद्ध हो जाती हैं और और कुछ समय के लिए एक विशेष इलाके में अंधेरा छा जाता है. हालांकि, चंद्रमा छोटा होने की वजह से सूर्य को पूरी तरह ढक नहीं पाता है और उसके किनारे आग के छल्ले की तरह नजर आते हैं.

Back to top button