गरियाबंद

Gariyaband: इस वजह से गाड़ाघाट के किसान काट रहे दफ्तरों के चक्कर, पढ़िए क्या है पूरा माजरा

रवि तिवारी@देवभोग।  (Gariyaband) गाड़ाघाट के 45 किसान पिछले 5 साल से मुआवजा राशि पाने के लिए दफ्तरों के चक्कर काटने को मजबूर हो गए है। स्थिति यह है कि पांच साल पहले अधिकृत किये गए जमीन के मुआवजे को लेकर सिंचाई विभाग के जिम्मेदार अधिकारी ग्रामीणों को गोलमोल जवाब देते आ रहे हैं। (Gariyaband) इधर मुआवजा राशि नही मिलने से नाराज़ ग्रामीणों ने एक बार फिर एसडीएम अनुपम आशीष टोप्पो को आवेदन कर उचित कार्रवाई करते हुए मुआवजा दिलाये जाने की गुहार लगाई है।

5 साल पहले जमीन अधिग्रहण, राशि का नामों निशान नहीं

(Gariyaband) एसडीएम को ज्ञापन देने पहुँचे किसान प्रभुलाल,शोभाधर,बलभद्र के साथ ही अन्य किसानों ने बताया कि वर्ष 2014-15 में उरमाल जल पलावन में नहर नाली के लिए जल संसाधन विभाग द्वारा गाडाघाट के करीब 45 किसानों की भूमि अधिग्रहण किया गया था। पांच साल पहले किये गए जमीन अधिग्रहण की मुआवजा राशि अब तक किसानों को नही मिल पाई है। किसानों की माने तो मुआवजा को लेकर जब भी विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों से चर्चा की जाती है। तो वे हमेशा कलेक्टर कार्यालय भेजकर अनुमोदन करने की बात कहते हुए गोलमोल जवाब देकर बात को टालने का प्रयास करते है।

2015-16 में अधिग्रहण की गई जमीन का मिल गया मुआवजा

एसडीएम दफ्तर पहुँचे किसानों ने बताया कि वर्ष 2015-16 में सितलीजोर और फलसापारा के किसानों को अधिग्रहण की गई जमीन की मुआवजा राशि मिल चुकी है। उनके जमीन को लेकर अब तक जिम्मेदारों ने उचित कदम उठाना मुनासिब नही समझा है। जिसके कारण वे मुआवजा राशि पाने के लिए जिम्मेदार अधिकारियों के चक्कर काटने को मजबूर हो गए है।

मुख्यमंत्री के पास करेंगे शिकायत

नाराज़ किसानों ने कहा कि वे पिछले 2 साल से आवेदन करते हुए अधिकारियों के चक्कर काट रहे हैं,लेकिन इसके बाद भी जिम्मेदार अधिकारियों का रवैया उदासीन बना हुआ है। ऐसे में एसडीएम को आवेदन कर एक बार फिर से उन्हें वस्तुस्थिति से अवगत करवाया गया है। यदि इसके बाद भी जिम्मेदार आवेदन पर उचित कार्रवाई नहीं करेंगे। तो पूरे 45 किसान मुख्यमंत्री से मिलकर उन्हें मामले से अवगत कराएंगे। और लापरवाह अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए मुआवजा दिलाये जाने की गुहार सीएम से करेंगे।

वही मामले में सिंचाई विभाग के एसडीओ आर के सिंघई ने कहा कि प्रक्रिया पूरी हो गयी है। जल्द ही संबंधित किसानों को मुआवजे की राशि मिल जाएगी।

उच्च कार्यालय को पत्र प्रेषित

मामले में एसडीएम अनुपम आशीष टोप्पो ने कहा कि संबंधित प्रकरण में भुगतान किए जाने को लेकर मार्गदर्शन के लिए उच्च कार्यालय को पत्र प्रेषित किया गया है। जैसे ही वहां से जवाब मिलता है। इसके बाद प्रकरण में उचित कदम उठाया जाएगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button