कोरिया

Koreya: बिना कोविड-19 जांच के मरीजों का क्लिनिक के भीतर कर रहा था इलाज, पहुंची प्रशासन की टीम……फिर

संजय गुप्ता@कोरिया। (Koreya) देश कोरोना के कहर से जूझ रहा है। ऑक्सीजन और बेड की कमी से लोग तड़पतड़प कर मर रहे हैं। लेकिन कुछ ऐसे भी लोग है जो अभी भी इस महामारी में अपने फायदे के लिए लोगों की जान जोखिम में डाल रहे हैं। जब लोगों को सर्दी, खांसी और जुकाम जैसे लक्षण दिखने पर वह गांवो के झोलाछाप डॉक्टर के पास इलाज के लिए पहुंच रहे हैं। (Koreya) बिना किसी कोविड टेस्ट के ये झोलाछाप डॉक्टर मरीजों का इलाज शुरू कर दे रहे हैं। जिसकी वजह से मरीज कुछ दिनों में काफी गंभीर हो जा रहे हैं। और उनकी मौत हो जा रही है।

(Koreya) ऐसा ही कुछ देखने को मिला कोरिया जिले के नगर पंचायत खोंगापानी में। लगातार शिकायत मिलने के बाद जब राजस्व, मेडिकल व पुलिस टीम मौके पर पहुंची उनके होश उड़े गये। जी हां फर्जी तरीके से झोलाछाप डॉक्टर ने अपने क्लीनिक के भीतर कई मरीजों को भर्ती कर लिया था, और इलाज कर रहा था। जब प्रशासन ने उसके क्लिनिक पर छापा मारा। तो डॉक्टर हाथ जोड़ कर अधिकारियों से माफी मांगने लगा। बताया जा रहा है कि इसमें से किसी भी मरीज का कोविड जांच नहीं हुआ था। बिना जांच के डॉक्टर मरीजों की भर्ती कर रहा था। साथ ही मरीजों से मोटी कमाई कर रहा था। मगर ऐन वक्त पर प्रशासन ने पहुंचकर उसके किये धराए पर पानी फेर दिया। प्रशासनिक अधिकारियों ने झोलाछाप डॉक्टर का क्लिनिक सील कर दिया है।

बता दें कि कुछ दिनों से प्रशासन द्वारा झोलाछाप डॉक्टरों पर सख्त कार्यवाही की जा रही है। इसके बावजूद बिना किसी डर के चोरी छुपे झोलाछाप डॉक्टर इलाज कर रहे हैं। ऐसे में प्रशासनिक अधिकारियों को टीम गठित कर हर गांव और नगर पंचायतों में जांच करना अत्यंत जरूरी है। जिससे लोगों की जान खतरे में पड़ने से पहले उन्हें बचाया जा सकें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button