कोरिया

Kanker: यहां पैसों से मिलता है मुफ्त का राशन, गरीबों के हक पर कैसे राशन दुकान संचालक ने डाला ‘डाका’, देखिए

प्रसेनजीत साहा@ कांकेर। (kanker) जिले के ऐसेबेड़ा पंचायत में ग्रामीणों ने राशन दुकान संचालक पर सम्पू्र्ण राशि लेने का आरोप लगाया है। ग्रामीणों का आरोप है कि मुफ्त में मिलने वाले राशन की राशि दुकान संचालक द्वारा ली जा रही है।ग्रामीणों ने बताया कि दो पंचायत में 644 कार्ड में से 550 ग्रामीणों के पास गरीबी रेखा का कार्ड है।  राशन दुकान संचालक सुदीन अधिकारी ने मुफ्त में मिलने वाले चावल की राशि ली गई है। गुस्साएं ग्रामीणों ने आज राशन दुकान संचालक के विरुद्ध  पखांजुर अनुविभागीय अधिकारी राजस्व अधिकारी को एसडीएम के नाम नायब तहसीलदार के हाथों ज्ञापन सौंपा है।

(kanker)ग्रामीणों ने खाद्य विभाग के अधिकारी जतिन देवांगन से भी मुलाकात की। राशन दुकान संचालक के विरुद्ध लिखित शिकायत की। मामले में खाद्य विभाग के अधिकारी जतिन देवांगन ने ग्रामीणों को मामले की निष्पक्ष जांच कर दोषी पाए जाने पर उचित कार्यवाही करने का आश्वासन दिया।

खाद्य विभाग के अधिकारी ने कही बात

(kanker)खाद्य विभाग के अधिकारी जतिन देवांगन ने बताया कि इस महीने पीडीएस चावल बांटने को लेकर एसडीएम निशा नेताम ने सभी राशन दुकान संचालकों की बैठक ली थी। प्रथमिक गरीबी रेखा के कार्ड धारियों को चावल बाटने का सम्पूर्ण जानकारी सूची जारी कर आदेशित किया गया था।

50 पैसे की दर से चावल बांटने का आदेश

क्यों कि इस माह केंद्र एवं राज्य सरकार द्वारा कुछ चावल को फ्री एवं नियमित देय चावल का आधी दर यानी 50 पैसे की दर से बांटने का निर्देश दिए गया था। मगर इसेबेड़ा पंचायत द्वारा संचालित राशन दुकान के संचालक सुदीन अधिकारी ने शासन के नियमों को दरकिनार करते हुए नियमित देय चावल एवं फ्री में बाटने वाले चावल का भुगतान सम्पूर्ण लिया गया है।

Bemetara: ओवर रेट में बिक रही शराब, फिर भी क्यों मौन है आबकारी विभाग?..देखिए

सूची से मिली जानकारी के अनुसार सुभाष मंडल को 35 किलो चावल में मात्र 5 रुपए लेना उल्लेख किया गया है। मगर सुभाष मंडल से 35 किलो चावल का सम्पूर्ण भुगतान 35 रुपये लिया गया है एवं रीता मंडल को 78 कोलो चावल देना है एवं उनसे मात्र 18 रुपए लेना उल्लेख किया गया है।

मगर हितग्राही से 18 रुपए के जगह 35 रुपए लिया गया है। इस तरह 550 कार्ड धारियों से उचित मूल्य से अधिक राशि ली गई है। दुकान संचालक ने ग्रामीणों को लिखित पंचनामा में उल्लेख किया है कि मेरे द्वारा जो हर कार्ड धारियों से 22 रुपए अधिक लिया गया है। उस रकम को दोनों पंचायत के सरपंच एवं वार्ड पंच के सामने राशन कार्ड धरियो को वापिस करेंगे।

खाद्य विभाग ने जारी किया आदेश

मामले में राशन दुकान संचालक सुदीन अधिकारी ने खाद्य विभाग से जारी किया गया। सूची को नजर अंदाज कर राशन दुकान में दिए हुए टैबलेट में दर्शाया गया। पुराने सूची के आधार पर राशन वितरण करने की बात कही।

अब देखने वाली बात ये होगी कि संबंधित विभाग के जिम्मेदार अधिकारी कब तक इन हितग्राहियों को न्याय दिलाने में कामयाब होते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button