गरियाबंद

Gariyaband: कप प्लेट धोने से लेकर उड़ीसा का सिंगर बनने तक का सफर, आज ओड़िसा के हर गली मोहल्ले में मोतीलाल के धुन में थिरकते नज़र आते है युवा

रवि तिवारी@देवभोग। (Gariyaband) कहते है कि प्रतिभा कभी सुविधाओं की मोहताज नही होती। बशर्तें प्रतिभा को सही मंच मिलना चाहिए। जी हां इस कहावत को सच कर दिखाया है काटाभांजी निवासी मोतीलाल बाघ उर्फ काटाभांजी सोनिया ने। मोतीलाल कुछ महीने पहले राजधानी के सिविल लाइन के एक चाय दुकान में कप प्लेट धोते हुए नज़र आते थे। वही चाय दुकान से लेकर ओड़िसा के प्रसिद्ध गायक बनने की उनकी कहानी भी बड़ी दिलचस्प है। (Gariyaband) मोतीलाल को जहाँ एक बार स्टूडियो में गाने का मौका क्या मिला,उस मौके को उसने ऐसा पकड़ा की आज मोतीलाल का देखते रहना तू,जानेमन कहा जाएगी सांग का डीजे ओड़िसा के युवाओं के सर चढ़कर बोल रहा है। वही मोती के ये गाने इतने पसंददीदा हो गए है कि ओड़िसा में कार्यक्रमों में भी उनकी डिमांड बढ़ गयी है। (Gariyaband) वही ओड़िसा के सबसे प्रशिद्ध गायक रूकू सोना के साथ गाना गाने के बाद मोतीलाल की डिमांड ओड़िसा में तेज़ी से बढ़ रही है। वही यु ट्यूब में डाले गए इनके वीडियो को भी जनमानस का भारी समर्थन मिल रहा है।

चाय पीने पहुँचे डायरेक्टर ने दिया मौका

यहां बताना लाज़मी होगा कि मोतीलाल के प्रतिभा को आगे ले जाने में सबसे महत्वपूर्ण योगदान डी आर स्टूडियो के डायरेक्टर लीपुन दास का है। लीपुन गायक सचिन टांडिया के साथ कुछ काम के सिलसिले में राजधानी रायपुर पहुँचे थे।

BJP महिला मोर्चा की प्रदेश कार्यकारिणी घोषित, यहां देखे पदाधिकारियों की सूची

इस दौरान सिविल लाइन के उस चाय दुकान में चाय पीने के लिए रुके। वहां चाय की चुस्की ले ही रहे थे, की अचानक पास से ही कप प्लेट धोते व्यक्ति को गुनगुनाते देखा। व्यक्ति की गुनगुनाहट देखते ही डायरेक्टर दास इतना ज्यादा प्रभावित हो गए कि वे मोतीलाल के पास पहुँच गए। इसके बाद उन्होंने पास पहुँचकर वीडियो बनाया। डायरेक्टर को उस दौरान मोतीलाल ने इतना प्रभावित किया कि उन्होंने उसे खरियार लाकर गाना गाने का मौका दिया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button