गरियाबंद

Gariyaband: सुपेबेड़ा में किडनी से फिर एक मौत,मौत का आंकड़ा पहुँचा 75,सीएमएचओ ने किडनी से मौत होने की बात से किया इंकार

रवि तिवारी@देवभोग। (Gariyaband) सुपेबेडा में किडनी से मौत का सिलसिला थमने का नाम नही ले रहा था। गॉव में कल देर रात फिर एक 49 वर्षीय अधेड़ जयसन पटेला की मौत हो गयी। गॉव के मुरली मनोहर क्षेत्रपाल,महेन्द्र के मुताबिक मृतक जयसन वर्ष 2017 से किडनी की बीमारी से पीड़ित था। मृतक सरकारी शिविरों के साथ ही ओड़िसा और छत्तीसगढ़ में भी अपना इलाज करवा चुका था।

(Gariyaband)  ग्रामीण मुरली मनोहर के मुताबिक मृतक अभी ओड़िसा में इलाज करवा रहा था। वही किडनी से मौत होने के सवाल पर सीएमएचओ डॉक्टर एन आर नवरत्न ने कहा कि किडनी से मौत होने की खबर गलत है। सीएमएचओ ने कहा कि किडनी से मौत होने का कोई प्रमाण नही है, (Gariyaband) उन्होंने कहा कि मृतक डायबिटीज का मरीज था। वही समय पर डायबिटीज का इलाज नही करवाने के चलते उसे डायबिटीज नेफ्रोपेथी हो गया। जिसके चलते उसकी मौत हो गयी। वही किडनी से मौत होने की बात को सीएमएचओ ने सिरे से खारिज कर दिया।

दो दिन पहले पहुँचे सीएमएचओ ने दी समझाइश

दो दिन पहले देवभोग दौरे पर पहुँचे सीएमएचओ डॉक्टर एन आर नवरत्न ने मृतक के घर पहुँचकर मामले की पूरी जानकारी ली थी। इस दौरान सीएमएचओ को मृतक की पत्नी ने जानकारी दिया था कि वे अपनी पति का इलाज ओड़िसा में आयुर्वेदिक तरीके से करवा रही है। वही आयुर्वेद से उन्हें राहत भी मिल रहा है। जिस पर सीएमएचओ ने समझाईश देते हुए डीकेएस या एम्स में इलाज करवाने की बात कही थी। वही सीएमएचओ के समझाइश का मृतक के परिजनों पर कोई फर्क नही पड़ा था। वही उन्होंने साफ तौर पर डीकेएस या फिर एम्स में इलाज करवाने से मना कर दिया था।

आंकड़ा पहुँचा 75,बढ़ने लगा दहशत

वही स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी किडनी से मौत नही होने की बात कहकर मामले से पल्ला झाड़ते हुए नज़र आ रहे है,जबकि ग्रामीण दावा कर रहे है कि मौत किडनी से ही हुई है।ऐसे में बढ़ते मौत के आंकड़ों के बीच ग्रामीणों में दहशत भी बढ़ने लगा है। आज हुई मौत के बाद गॉव में मातम पसर गया है। गॉव के मुरली मनोहर,महेंद्र और बहादुर मसरा ने कहा कि कांग्रेस जब सत्ता से दूर थी तो उसे सुपेबेडा याद था,अब सत्ता में आने के बाद सुपेबेडा को लेकर सरकार का ध्यान ही नही है।

Related Articles

6 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button