गरियाबंद

Gariyaband: मिशन 2023 की तैयारी में जुटी कांग्रेस, अभी से बीजेपी के मजबूत गढ़ में सेंध लगाने में जुटी

परमेश्वर राजपूत@गरियाबंद।  (Gariyaband) बिन्द्रानवागढ़ विधानसभा में पिछले तीन चुनाव में भाजपा से करारी हार के बाद कांग्रेस अब मिशन 2023 की तैयारी में जुट गई है।आगामी चुनाव को देखते हुए हर हाल में बिन्द्रानवागढ़ फतह की रणनीति के लिए इस बार ब्लॉक अध्यक्ष की नियुक्ति में बेहतर सामंजस्य स्थापित किया गया है।

(Gariyaband) भाजपा सत्ता ने रहते हुए आदिवासी आरक्षित बिन्द्रानवागढ़ को अभेद्य किला के रूप तैयार कर लिया है। पिछले तीन चुनाव के रिपोर्ट कार्ड भी बताते है कि हर बार कांग्रेस को करारी शिकस्त मिली है।(Gariyaband)  सत्ता के गलियारों में बिन्द्रानवागढ़ को भाजपा का अभेद्य गढ़ भी मान लिया गया है। इसी मिथक को तोड़ने अब कांग्रेस संगठन में सामंजस्य की रणनीति अपनाई है।

हाल ही में जारी ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष की सूची में बिन्द्रानवागढ़ में पड़ने वाले तीन ब्लॉक में तीन वर्गों को प्रतिनिधित्व दिया गया है। माली समाज बाहुल्य देवभोग ब्लॉक में माली समाज से भूपेंद्र मांझी,यादवों के वर्चस्व वाला इलाका अमलीपदर में ललिता यादव को तो मैनपुर में भोला जगत को वंही गरियाबन्द से अल्पसंख्यक वर्ग को ब्लॉक कांग्रेस की कमान सौंपा। संतुलन स्थापित करने की कोशिश की गई है। आगामी चुनाव के दावेदार व रणनीतिकारों का भी मानना है कि इस सामंजस्य के सकारात्म परिणाम आएंगे।

इस सामंजस्य का कुछ जगहों पर यूथ कांग्रेस के कुछ पदाधिकारियों ने विरोध भी किया,पर विरोध जताने वाले मामूली संख्या के बीच,नव नियुक्त ब्लॉक अध्यक्ष के स्वागत व सम्मान में भारी संख्या में कार्यकर्ताओं की मौजूदगी ने विरोधियो को जवाब भी दे दिया है।विरोध में आला नेताओ की पुतला फूंकने वालो पर कार्यवाही की मांग को लेकर जिला संगठन लामबद्ध हो गई है। उद्दंडता पर अब कार्यवाही की तलवार लटक रही है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button