देश - विदेश

Corona vaccine: इंतजार होगा खत्म, जल्द आ रही फ्री वैक्सीन, देश को मिली बड़ी सौगात, करोड़ो खुराक ला रही मोदी सरकार, पढ़िए

नई दिल्ली। (Corona vaccine) देश में कोरोना का कहर जारी है. इस बीच भारत में कोरोना वैक्सीन पर तेजी से ट्रायल चल रहा है. भारत में 3 वैक्सीन अभी ट्रायल पर है. जिनमें पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट Covishield है. जिसका ट्रायल तेजी से चल रहा है.

सीरम इंस्टीट्यूट सबसे बड़ी वैक्सीन उत्पादक संस्था

सीरम इंस्टीट्यूट को दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन उत्पादक संस्था कहा जाता है.

(Corona vaccine) सीरम इंस्टीट्यूट न सिर्फ ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन का उत्पादन कर रही है. इसके साथ ही अन्य वैक्सीन का उत्पादन भी कर रही है. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी वाली कोरोना वैक्सीन का भारत में Covishield के नाम से उत्पादन होगा.

(Corona vaccine) सीरम इंस्टीट्यूट से सीधे वैक्सीन खरीदेगी भारत सरकार भारत सरकार सीरम इंस्टीट्यूट से सीधे वैक्सीन खरीदेगी. सरकार की इस योजना के अनुसार Covishield वैक्सीन लोगों को मुफ्त में मिलेगी.

Chhattisgarh news: जन्मदिन पर सीएम भूपेश बघेल का सौगात, अत्याधुनिक सुविधाओं से युक्त एम्बुलेंस को दिखाई हरी झंडी, ये है खासियत       

68 करोड़ डोज की मांग

सरकार ने सीरम इंस्टीट्यूट से अगले साल जून तक 68 करोड़ डोज की मांग की है. सरकार इस वैक्सीन का ट्रायल तेजी से पूरा करने को मंजूरी दे चुकी है. वैक्सीन सफल घोषित होने पर लोगों को राष्ट्रीय टीकाकरण कार्यक्रम के तहत मुफ्त में वैक्सीन दी जाएंगी.

वैक्सीन के उत्पादन का अधिकार एस्ट्रेजेनका कंपनी को

बता दें कि ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन के उत्पादन का अधिकार एस्ट्रेजेनका कंपनी को है. एस्ट्रेजेनका कंपनी के साथ ही सीरम इंस्टीट्यूट ने करार किया है. इस करार के तहत सीरम इंस्टीट्यूट न सिर्फ भारत बल्कि 92 देशों में वैक्सीन की सप्लाई कर सकती है.

 इतना बड़ा है सीरम इंस्टीट्यूट का कैंपस

सीरम इंस्टीट्यूट पुणे में स्थित है. इंस्टीट्यूट का कैंपस 150 एकड़ में फैला है. यहां सैकड़ों कर्मचारी तेजी से वैक्सीन उत्पादन करने में जुटे हैं. वहीं, मौजूदा योजना के तहत अगले करीब 72 दिन में वैक्सीन बाजार में पहुंच सकती है.

शनिवार को हुई फेज-3 ट्रायल

शनिवार को भारत में Covishield वैक्सीन के फेज-3 ट्रायल की पहली खुराक दी गई. दूसरी खुराक 29 दिन के बाद दी जाएगी. दूसरी खुराक देने के 15 दिन बाद ट्रायल का आखिरी डेटा सामने आएगा. वहीं, इसी वैक्सीन का ट्रायल ब्रिटेन में भी हो रहा है,

उम्मीद है कि जल्दी ही ब्रिटेन से भी ट्रायल का डेटा दुनिया के सामने आएगा. वहीं, सीरम इंस्टीट्यूट को कोरोना वैक्सीन तैयार करने के लिए बिल एंड मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन और गवि वैक्सीन्स अलायंस से 150 मिलियन डॉलर का फंड भी मिला है. ये फंड भारत सहित अन्य विकासशील देशों को वैक्सीन सप्लाई करने के लिए दिया गया है.

गवि वैक्सीन अलायंस की योजना के तहत एस्ट्रेजेनका और नोवावैक्स वैक्सीन की प्रति खुराक की कीमत 224 रुपये होगी. गवि 92 देशों के लिए कोरोना वैक्सीन उपलब्ध कराएगा.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button