Chhattisgarh

Chhattisgarh: 3.34 लाख किसानों को 1563 करोड़ रूपए का भुगतान…1 लाख मीट्रिक टन धान का डीओ जारी, अब तक प्रदेश में इतने लाख टन धान की खरीदी

रायपुर। (Chhattisgarh) खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में 9 दिसम्बर तक 13 लाख 21 हजार मीट्रिक धान की खरीदी की गई है। अब तक राज्य के 3 लाख 69 हजार 561 किसानों ने समर्थन मूल्य पर धान बेचा। इनमें से 3 लाख 34 हजार 256 किसानों को एक हजार 563 करोड़ रूपए का ऑनलाईन भुगतान किया गया है। राज्य के मिलरों को एक लाख 9 हजार 433 मीट्रिक टन धान का डी.ओ. जारी किया जा चुका है। (Chhattisgarh) जिसके विरूद्ध मिलरों द्वारा 3 हजार 437 मीट्रिक टन धान का उठाव कर लिया गया है।

(Chhattisgarh) खरीफ वर्ष 2020-21 में 9 दिसम्बर तक राज्य के महासमुंद जिले में एक लाख 3 हजार 913 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है। इसी प्रकार बस्तर जिले में 12 हजार 839 मीट्रिक टन, बीजापुर जिले में 2 हजार 473 मीट्रिक टन, दंतेवाड़ा जिले में 561 मीट्रिक टन, कांकेर जिले में 41 हजार 502 मीट्रिक टन, कोण्डागांव जिले में 21 हजार 81 मीट्रिक टन, नारायणपुर जिले में एक हजार 268 मीट्रिक टन, सुकमा जिले में 2 हजार 70 मीट्रिक टन, बिलासपुर जिले में 69 हजार 76 मीट्रिक टन, गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही 9 हजार 7483 मीट्रिक टन, जांजगीर-चांपा जिले में 87 हजार 978 मीट्रिक टन, कोरबा जिले में 9 हजार 471 मीट्रिक टन, मुंगेली जिले में 52 हजार 630 मीट्रिक टन खरीदी की गई है।

Congress ने कहा- गोबर बेच कर पशुपालक स्कूटी खरीद रहे तो नान घोटाला वाले को पीड़ा हो रही

इसी तरह रायगढ़ जिले में 73 हजार 148 मीट्रिक टन, बालोद जिले में 91 हजार 522 मीट्रिक टन, बेमेतरा जिले में 96 हजार 609 मीट्रिक टन, दुर्ग जिले में 69 हजार 271 मीट्रिक टन, कवर्धा जिले में 73 हजार 670 मीट्रिक टन, राजनांदगांव जिले में एक लाख 21 हजार 648 मीट्रिक टन, बलौदाबाजार जिले में 86 हजार 701 मीट्रिक टन, धमतरी जिले में 68 हजार 68 मीट्रिक टन, गरियाबंद जिले में 54 हजार 983 मीट्रिक टन, रायपुर जिले में 90 हजार 180 मीट्रिक टन, बलरामपुर जिले में 13 हजार 203 मीट्रिक टन, जशपुर जिले में 11 हजार 171 मीट्रिक टन, कोरिया जिले में 10 हजार 794 मीट्रिक टन, सरगुजा जिले में 20 हजार 725 मीट्रिक टन और सूरजपुर जिले में 24 हजार 670 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है।

Related Articles

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button