छत्तीसगढ़

Chhattisgarh: मई एवं जून में सार्वजनिक वितरण प्रणाली के जरिए चावल का निशुल्क वितरण, आवंटन जारी

रायपुर। (Chhattisgarh) मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा लिए गए निर्णय के अनुसार कोविड-19 के संक्रमण के दौरान राज्य के गरीब एवं जरूरतमंद परिवारों को राहत प्रदान करने के लिए माह मई एवं जून में सार्वजनिक वितरण प्रणाली के जरिए चावल का निशुल्क वितरण किया जाएगा। इस निर्णय अनुसार माह मई एवं जून 2021 में अंत्योदय राशन कार्ड, प्राथमिकता वाले राशन कार्ड, अन्नपूर्णा राशनकार्ड एवं निराश्रित तथा निशक्तजन को जारी राशन कार्ड में निशुल्क वितरण हेतु चावल का आवंटन 23 अप्रैल 2021 को जारी किया जा चुका है। (Chhattisgarh) राज्य शासन के उपरोक्त निर्णय अनुसार निशुल्क वितरण हेतु माह मई एवं जून के प्रत्येक माह के लिए 1.97 लाख टन चावल का आवंटन जारी किया गया है।

(Chhattisgarh) उपरोक्त आवंटन के अतिरिक्त माह मई एवं जून 2021 के दौरान राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम तथा छत्तीसगढ़ खाद्य एवं सुरक्षा अधिनियम के अंतर्गत जारी राशनकार्डधारियों को राहत देने के लिए दिनांक 6 मई 2021 को अतिरिक्त चावल का आवंटन जारी किया जा रहा है जिसके आधार पर माह मई एवं जून 2021 के दौरान विभिन्न राशन कार्ड धारियों को निशुल्क चावल की पात्रता होगी।

 अंत्योदय राशनकार्डधारियों में से  01 सदस्य वाले राशनकार्डधारियों को मई एवं जून 2021 को 70 किलो चावल का आबंटन किया गया है। मई एवं जून के अतिरिक्त चावल की मात्रा 10 किलो की होगी। इस प्रकार 1 सदस्य वाले अंत्योदय राशनकार्ड धारियों को कुल 80 किलो चावल की पात्रता होगी। 02 सदस्य वाले राशनकार्डधारियों को मई एवं जून माह में 70 किलो का आबंटन तथा 20 किलो अतिरिक्त चावल की मात्रा, कुल 90 किलो चावल की पात्रता होगी। 3 सदस्य वाले राशनकार्डधारियों को 70 किलो चावल का आबंटन एवं 30 किलो अतिरिक्त चावल की मात्रा, कुल 100 किलो चावल की पात्रता होगी।

 4 सदस्य वाले राशनकार्डधारियों को 70 किलो का आबंटन एवं 40 किलो अतिरिक्त चावल की मात्रा, कुल 110 चावल की पात्रता होगी। 05 सदस्य वाले राशनकार्डधारियों को 70 किलो का आबंटन एवं 50 किलो अतिरिक्त  चावल की मात्रा, कुल 120 किलो चावल की पात्रता होगी। अंत्योदय राशनकार्ड में प्रत्येक सदस्य को 02 माह की अतिरिक्त पात्रता 10 किलो प्रति सदस्य (5 किलो प्रति सदस्य प्रति माह) होगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button