रायपुर

Chhattisgarh: बीपीसीएल मजदूरों की अभूतपूर्व हड़ताल, रायपुर में समर्थन में हुआ प्रदर्शन

रायपुर।(Chhattisgarh) मुनाफा देय तेल व गैस कम्पनी बीपीसीएल के निजीकरण के केंद्र सरकार के फैसले के खिलाफ बी पी सी एल के मजदूरों की 7 व 8 सितम्बर की देशव्यापी हड़ताल का पुरजोर समर्थन करते हुए सीटू कार्यकर्ताओं ने रायपुर में भी शारीरिक दूरी के नियम का पालन करते हुए प्रदर्शन किए ।

(Chhattisgarh) उल्लेखनीय है कि भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन का निर्माण 1976 में संसद के  कानून के तहत एक बहुराष्ट्रीय कम्पनी का अधिग्रहण कर किया गया था । यह एक मुनाफाकमाने वाली कम्पनी है जिसे मौजूदा केंद्र सरकार निजी हाथो में सौंपने का कुत्सित प्रयास कर रही है । इसके पहले भाजपा सरकार के कार्यकाल में 2002-2003 में भी इसे बेचने की कोशिश की गई थी जिसका जबरदस्त जन प्रतिरोध हुआ था जिसके चलते सरकार को पीछे हटना पड़ा था । अब फिर एक बार भाजपा की वर्तमान केंद्र सरकार 9.5 लाख करोड़ के विशाल परिसंपत्ति और देश भर में फैले उसके वितरण ढांचे के व्यापक आधार के बावजूद उसे निजी पूंजी के मुनाफे की लूट के हवाले करने का फैसला ले रही है जो राष्ट्रीय सम्पत्ति की लूट से कम नहीं है ।

Congress ने कहा- पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह को प्रदेश के बेरोजगारों से माफी मांगनी चाहिए, न की ट्वीट करना चाहिए

(Chhattisgarh) वर्तमान भाजपा सरकार इस विपुल परिमाण के संसाधन  और जनता के साधन से निर्मित इस कम्पनी जिसने कर और लाभांश के रूप में करोड़ों रुपए निरंतर भारत सरकार को दिए उसे उस मात्र  लगभग 60 हजार करोड़ रुपए में अपने पूंजीपति मित्रों के हवाले करने का प्रयास कर रही है , यह पेट्रोलियम क्षेत्र में उनके मित्र दरबारी पूंजीपति के एकाधिकार को सुगम बनाएगा जो खुले तौर पर देशविरोधी कदम है ।

देश के बी पी सी एल कर्मियों ने  सरकार के इस देश विरोधी फैसले के खिलाफ दो दिन की जबर्दस्त हड़ताल की । कोच्चि, मुंबई के रिफायनरी, देश के विभिन्न क्षेत्रों में स्थित  एल पी जी बाटलिंग प्लांट में भी शत प्रतिशत हड़ताल हुई । देश के समस्त केंद्रीय ट्रेड यूनियनों ने भी इस हड़ताल का समर्थन किया । रायपुर में भी श्रमिकों ने इस हड़ताल का समर्थन करते हुए केंद्र सरकार से इस देश विरोधी फैसले को तत्काल वापस लेने की मांग की । इस प्रदर्शन में सुरेन्द्र शर्मा, अलेक्जेंडर तिर्की, के के साहू, वी एस बघेल, आर के गोहिल सहित अन्य साथी प्रमुख रूप से  शामिल रहे ।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button