सरगुजा-अंबिकापुर

Ambikapur: जब प्रशासन ने न सुनी फरियाद, तो ग्रामीणों ने खुद चंदा इकट्‌ठा कर शुरू किया सड़क निर्माण, Video

शिव शंकर साहनी@सरगुजा। (Ambikapur) जिले के ग्राम खैरबार में ग्रामीणों की शिकायत सुनने के लिए कोई जनप्रतिनिधि  नहीं है. यही वजह है कि ग्रामीणों ने बौनापारा से मछिन्दरपारा तक सड़क का निर्माण लोगो ने श्रमदान और चंदा इकट्ठा कर डेढ़ किलोमीटर सड़क का निर्माण किया है.

आबादी हजारों में मगर सड़क का निर्माण अधूरा

अंबिकापुर (Ambikapur) शहर से सटा यह गांव जहां की आबादी हजारों में हैं. लेकिन इस गांव के इस बस्ती में मूलभूत सुविधाएं भी जनप्रतिनिधि मुहैय्या नहीं करवा पा रहे हैं. इसका जीता जागता उदाहरण यह गांव है. जहां ग्रामीणों ने अपने से  श्रमदान और हर घर से 100 से 200 रूपए चंदा कर सड़क का निर्माण किया है. दरसअल इस गांव के लोगों ने सरपंच और सचिव से कई बार सीसी रोड बनाने की मांग की. लेकिन आज तक सड़क का निर्माण नही किया गया. (Ambikapur) जिसकी वजह से बरसात के दिनों में सड़क में बड़े-बड़े गड्ढे हो जाते हैं. आने जाने में गांव वालों को परेशानियों का सामान करना पड़ता हैं. कई बार दुर्घटना से ग्रामीणों को जान भी गवाना पड़ता हैं..

1 October: इन राशियों के लिए शुभ है महीने का पहला दिन, देखिए आपकी कौन सी राशि है…

जनपद उपाध्यक्ष ने सड़क निर्माण पूरा करने का दिया आश्वासन

वही इस बारे में जनपद उपाध्यक्ष विशुन दास  को गांव की समस्याओं से अवगत कराया गया तो उन्होंने कहा कि आज मैं इस गांव में जाकर देखूंगा. और मेरे लेटर हेड में इस गांव के रोड की स्वीकृति के लिए पंचायत मंत्री को दूंगा. जल्द से जल्द इस गांव में सड़क का निर्माण हो सके इसके लिए पूरा प्रयास करूंगा.

UP: बलरामपुर में हाथरस जैसा केस, युवती से गैंगरेप, पीड़िता ने तोड़ा दम

ऐसे कई गांव जो मूलभूत सुविधाओं से हैं वंचित

लिहाजा अम्बिकापुर शहर से सटा यह गांव आज भी मूलभूत सुविधाओं से वंचित भले ही नजर आ रहा.लेकिन ऐसे कई गांव होंगे जहां इस तरह  की सुविधाओं से वंचित है. लेकिन जनप्रतिनिधियों को और जिला प्रशासन को इसमें ध्यान देने की आवश्यकता है..जिससे कि लोगों को मूलभूत सुविधाएं मिल सके और एक  विकसित ग्राम का निर्माण हो सके.. बहरहाल  देखना होगा की इस गांव में कब तक सड़क बन पाता है या नहीं यह देखने वाली बात होगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button