महासमुंदक्राईम

Action: सुबह-सुबह एसपी निकले थे गश्त पर, पकड़ा गया कंटेनर, जब ली तलाशी तो ये देख उड़े होश

मनीष@महासमुन्द। (Action) कंटेनर में भर कर ले जा रहे प्रतिबंधित जर्दा गुटखा सुहाना 35 बोरो में 12 लाख का गुटखा बरामद कर 2 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है।

(Action) गौरतलब है कि आज महासमुन्द एस पी प्रफुल्ल ठाकुर ने सुबह गस्त करने को निकल गए थे। इसी दौरान उन्हें एक हरियाणा की कंटेनर संदिग्ध अवस्था में घूमते दिखा। जिसे देख एसपी ठाकुर को संदेह हुवा और एक कंटेनर हरियाणा पासिंग कंटेनर बरोंड़ा चैक के आस-पास संदिग्ध अवस्था में दिखी। 

Ambikapur: इसलिए छात्र एकता मंच ने कुलसचिव को सौंपा ज्ञापन, जानिए क्या है पूरा माजरा

(Action) कंटेनर क्रमांक एच.आर. 55 एस 1641   पुलिस अधीक्षक ने बरोंडा चैक  मे रोककर पूछताछ किया गया। वाहन चालक द्वारा दिल्ली से फार्चुन सामान रखना बताया।

जिसे रायपुर व बलौदाबाजार ले जाना बता रहा था, चालक के पास बिल्टी की मांग करने पर बिल्टी दिखाया व चालक का हावभाव देखकर शक होने पर कंटेनर को खोलकर तलाशी ली गई।

 जिसकें अंदर रिलेक्सो फ्लाईट चप्पल के कार्टून एवं टीक-टाक रैपर के कार्टून व मिक्चर के बीच में छिपाकर कंटेनर के सामने की ओर 35 बोरियों में प्रतिबंधित सुहाना पसंद गुटखा रखा गया था।

 ड्रायवर से पूछताछ करने पर अपना नाम जुबेर पिता जमालूदीन उम्र 38 वर्ष सा. नई थाना पुनहाना जिला नुह (मेवात) हरियाणा का होना बताया जो दिल्ली से माल भरकर जिला रायपुर एवं बिलासपुर खपाने लाया था।  वाहन चालक से तम्बाकूयुक्त सुहाना पसंद गुटखा परिवहन करने के संबंध में वैधानिक दस्तावेज मांगा गया।

जिसके द्वारा गुटखा रखने व उनका परिवहन करने संबंधित दस्तावेज उपलब्ध नही करा पाने व छत्तीसगढ़ राज्य में जर्दायुक्त गुटखा प्रतिबंधित होने से 35 बोरियों में भरा 6-6 कट्टी प्रत्येक कट्टी का कीमत 6000 रूपए कीमत की  12,60,000 रूपए को जप्त किया गया।  आरोपी को मौके पर से गिरफ्तार कर थाना महासमुंद में धारा 6,7,20(2) कोटपा एक्ट के तहत कार्यवाही की गई।

गलिब्स ने एसपी ठाकुर से पूछा कि शहर में प्रतिबंधित जर्दा युक्त गुटखा खुलेआम बिक रहा है, अभी हाल ही में मार्केट में सितार गुटखा गांव गांव में बिक रहा है। इस पर ठाकुर ने कहा कि आपके मध्य सितार गुटखा की जानकारी मिली है, इस पर भी हम कार्रवाई जल्द करेंगे।

Related Articles

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button