शराब दुकान में रखे पैसे को देखकर बदली कर्मचारियों की नियत..चोरी कर हुए फरार..ऐसे चढ़े पुलिस के हत्थे

0
9
शराब दुकान में रखे पैसे को देखकर बदली कर्मचारियों की नियत..चोरी कर हुए फरार..ऐसे चढ़े पुलिस के हत्थे

बंसत शर्मा@राजनंदगांव। जिले के छुईखदान स्थित शराब दुकान में बीते दिनों हुई चोरी के मामले में पुलिस ने सफलता हासिल की है और शराब दुकान के ही चार कर्मचारियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस की गिरफ्त में आए आरोपियों के पास से चोरी की रकम भी बरामद की गई। 10 फरवरी की दरमियानी रात छुईखदान के देसी और अंग्रेजी शराब दुकान में शराब की बिक्री से आए लगभग 24 लाख 31 हजार 750 रूपये की अज्ञात चोरों के द्वारा चोरी कर लेने की सूचना पुलिस को दी गई थी। शराब दुकान के कर्मचारी राकेश वर्मा ने मामले की रिपोर्ट छुईखदान थाने में दर्ज कराई थी। जिस पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सहित पुलिस के आला अधिकारी घटनास्थल पर पहुंचे थे और बारीकियों से जांच कर कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे। मामले की जांच के दौरान ही इस घटना में शराब दुकान से जुड़े कर्मचारियों के होने का संदेह बना हुआ था।

क्योंकि रुपए चोरी करने के लिए किसी भी लॉकर को नहीं तोड़ा गया था। बल्कि चाबी से खोल कर रुपए की। चोरी की गई थी वहीं सीसीटीवी का हार्ड डिस्क चोरी कर लिया गया था। जिससे इस मामले में शराब दुकान के कर्मचारियों के शामिल होने का आशंका नजर आ रही थी। पूछताछ के दौरान पुलिस को चाबी के गुच्छे से मुख्य द्वार पर लगने वाले ताले की एक चाबी गायब मिली। वहीं लॉकर का चाबी भी शराब दुकान के भीतर ही एक स्थान पर रखा जाता था। जिससे इस वारदात में जानकार व्यक्ति के द्वारा ही घटना को अंजाम दिए जाने का मामला प्रतीत हो रहा था।

पुलिस इसी दिशा में आगे बढ़ी और शराब दुकान के कर्मचारियों से ही पूछताछ शुरू कर दी। मामले की जांच के दौरान शराब दुकान के कर्मचारी ने दिलीप यादव ने बताया कि शराब दुकान का गार्ड मानक राम जंघेल 4-5 लाख रूपये जुएं में जीता है। इसके बाद पुलिस ने मानक राम से पूछताछ की तो उसने पुलिस को गुमराह करने की कोशिश की और अलग-अलग बातें बनाता रहा। कड़ाई से पूछताछ में मानक राम ने अपना अपराध कबूल किया और अपने साथियों के साथ उक्त घटना को अंजाम देना स्वीकार। आरोपी मानक राम ने कहा कि उसके ऊपर काफी कर्ज हो गया था, जिसकी अदायगी करने के लिए उसने अपने साथी के साथ मिलकर इस चोरी की घटना को अंजाम दिया है।

पुलिस की पूछताछ में इस वारदात को अंजाम देने वाला मुख्य आरोपी मानक राम जंघेल निकला वहीं उसने अपने अन्य साथी पुनीत राम जंगघेल, मोहित यादव, मोहन पाल के साथ मिलकर घटना को अंजाम देना स्वीकारा। इसके बाद पुलिस ने सभी आरोपियों को हिरासत में लेकर पूछताछ की और आरोपियों की निशानदेही पर चोरी किए गए रकम में से 22 लाख, 79 हजार 8 सौ 10 रुपए और सीसीटीवी के डीव्हीआर बॉक्स को बरामद किया है।

दोनों दुकान का पैसा एक ही रखा था एक ही दुकान में..
छुईखदान के विदेशी शराब दुकान में लगभग 8 लाख 69 हजार 1 सौ 10 रूपये का बिक्री हुई थी। वहीं देसी शराब दुकान की बिक्री 15 लाख 62 हजार 640 रूपए थी। दोनों दुकान का पैसा एक दुकान में ही रखा हुआ था। बैंक की छुट्टी होने के चलते 3 दिनों की बिक्री का पैसा एक साथ ही था।

बड़ी रकम देखकर बनाए चोरी की योजना
इतनी बड़ी रकम देखकर आरोपियों ने इसे चोरी करने की योजना बनाई। आरोपियों ने रुपयों को अलग-अलग जगह छुपा कर रखा था। एक आरोपी ने अपने घर के कोठार में ही रुपयों को छुपा कर रखा था तो दूसरे आरोपी ने रास्ते में ही एक खेत में रखे पैरावट में रुपयों को छुपा कर रख दिया था। पुलिस की गिरफ्त में आए सभी आरोपी छुईखदान क्षेत्र के निवासी हैं। वहीं पकड़े गए सभी आरोपियों खिलाफ चोरी का मामला दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है। पुलिस सीसीटीवी के हार्ड डिस्क के माध्यम से यह भी पता लगाने की कोशिश कर रही है कि इनके साथ कोई और आरोपी तो नहीं था।